द ग्रेट इंडियन ट्रेवल बाजार-2016 का उद्घाटन-युवा पर्यटक राजस्थान की ओर आकर्षित- मुख्यमंत्री

????????????????????????????????????

जयपुर, 17 अप्रेल। मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे ने कहा कि पर्यटन की राजस्थान की अर्थव्यवस्था में एक महत्वपूर्ण भूमिका है और इसने विश्व में प्रदेश की एक अलग पहचान कायम है। उन्होंने कहा कि इस पहचान को व्यापक बनाने के लिए पहली बार राजस्थान में कई भाषाओं में और कई माध्यमों से प्रचार अभियान चलाया गया है, जिसने युवा पर्यटकों का ध्यान अपनी ओर खींचा है।

श्रीमती राजे रविवार को होटल ललित में ग्रेट इण्डियन ट्रैवल बाजार 2016 के उद्घाटन सत्र को सम्बोधित कर रहीं थीं। इस अवसर पर उन्होंने केन्द्रीय पर्यटन सचिव के माध्यम से प्रदेश में एयर कनेक्टिविटी में सुधार लाने के लिए केन्द्र सरकार से आग्रह किया। मुख्यमंत्री ने जोर देकर कहा कि राजस्थान में हवाई सेवाओं की अत्यन्त आवश्यकता है। उन्होंने केन्द्रीय पर्यटन सचिव से कहा कि वे केन्द्रीय पर्यटन मंत्री श्री महेश शर्मा से इस विषय पर चर्चा करें, क्योंकि हमारी यह मांग काफी लम्बे समय से लम्बित है, जिस पर केन्द्र सरकार को जल्द से जल्द सकारात्मक कदम उठाने चाहिए। श्रीमती राजे ने कहा कि प्रदेश में पर्यटन को नई ऊंचाईयां देने के उद्देश्य से नई टूरिज्म यूनिट पॉलिसी 2015 लाई गई है तथा नया प्रचार अभियान शुरू किया गया है। इन प्रयासों से ज्यादा से ज्यादा देशी और विदेशी पर्यटकों को आकर्षित किया जा सकेगा। उन्होंने कहा कि प्रचार अभियान की ताजगी और नयेपन ने नए टूरिस्ट सर्किट बनाने के साथ-साथ पर्यटकों को आकर्षित करने वाले कार्यक्रम बनाए जा रहे हैं। रिसर्जेन्ट राजस्थान समिट का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि इसके तहत प्रदेश में नई पर्यटन इकाईयों की स्थापना के लिए 10 हजार करोड़ रुपये निवेश लागत वाले 220 एमओयू किए गए हैं, जिनसे प्रदेश में 40 हजार लोगों को रोजगार मिलेगा। अब इन एमओयू को अमलीजामा पहनाने के प्रयास किए जा रहे हैं।

श्रीमती राजे ने उपस्थित संभागियों से अपील की कि वे राजस्थान पर्यटन के अभियान को देश एवं विदेश में ज्यादा से ज्यादा प्रचारित करें। उन्होंने कहा कि पर्यटन उद्यमी राज्य सरकार को इस क्षेत्र को बढ़ावा देने से जुड़े सुझाव भी दें। उन्होंने प्रदेश में पर्यटन के लिए आधारभूत ढांचा तैयार करने के प्रयासों में केन्द्रीय पर्यटन एवं संस्कृति मंत्रालय के सहयोग के लिए धन्यवाद दिया। मुख्यमंत्री ने कहा कि त्वरित एवं सुरक्षित यात्रा सुनिश्चित करने के लिए प्रदेश में सड़कों को सुधारा जा रहा है और उन पर्यटन स्थलों को भी नई सड़कों से जोड़ा जा रहा है जिनके बारे में लोग कम जानते हैं। उन्होंने कहा कि धार्मिक पर्यटन को बढ़ावा देने एवं धार्मिक स्थलों तक पर्यटकों की आसानी से आवाजाही तथा उन्हें सुविधाएं देने के लिए टेम्पल सर्किट बनाए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि सांस्तिक एवं हेरिटेज पर्यटन को आगे बढ़ाने के लिए भी राज्य सरकार विशेष प्रयास कर रही है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि कला एवं शिल्प का पर्यटन के साथ सीधा संबंध है। इसी को देखते हुए राज्य सरकार दस्तकारों को बेहतरी एवं उन्हें अपने हुनर को दिखाने के लिए सही प्लेटफॉर्म देने की दिशा में कार्य कर रही है। उन्होंने कहा कि वल्र्ड क्राफ्ट काउंसिल द्वारा जयपुर को क्राफ्ट सिटी घोषित किया गया है। जयपुर शहर की कला एवं शिल्प के कारण ही यूनेस्को ने भी जयपुर को शिल्प एवं लोक कलाओं के शहर के रूप में चुना है।

श्रीमती राजे ने कहा कि राजस्थान को यहां के महलों एवं किलों, यहां के रंगों एवं जायकों के साथ-साथ यहां के वन्य जीवन के लिए जाना जाता है। यहां आने वाले लोगों के मनोरंजन एवं उन्हें जोड़े रखने के लिए मेलों एवं उत्सवों के कैलेण्डर में कुछ नए कार्यक्रम जोड़े गए हैं, जिन्हें लोगों ने काफी पसंद किया है। हर साल होने वाले आयोजनों के अलावा इस साल जयपुर में कोक स्टूडियो कंसर्ट, म्यूजिक इन द पार्क, नेवल सिम्फोनिक आर्केस्ट्रा, पुष्कर में सेक्रेड म्यूजिक कार्यक्रम, उदयपुर में वर्ल्ड म्यूजिक फेस्टीवल का आयोजन, इंटरनेशनल फोटो फेस्टीवल एवं हेरिटेज फैशन वीक ऎसे कार्यक्रम हैं जो पर्यटकों के लिए आकर्षण का केन्द्र होंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि देश की तरक्की के लिए राज्यों को भी सहयोगी बनना होगा। हमारा उद्देश्य राजस्थान को देश के सबसे पसंदीदा स्थल के रूप में विकसित करने के साथ-साथ भारत को विश्व के पर्यटन मानचित्र पर पसंदीदा देश के रूप में राष्ट्रीय स्तर पर किये जा रहे प्रयासों में भी सहयोग करना है। श्रीमती राजे ने कहा कि पर्यटन के क्षेत्र में किए जा रहे नवाचारों, नए कार्यक्रमों और अन्य प्रयासों की सफलता के लिए जरूरी है कि उद्योग एवं व्यवसाय जगत से जुड़े लोग आगे बढ़कर सहयोग करें। श्रीमती राजे ने फिक्की राजस्थान की ओर से प्रकाशित पुस्तिका ‘इंडिया इनबाउण्ड’ का विमोचन भी किया।

कार्यक्रम में सांसद श्री वीपी सिंह, केन्द्रीय पर्यटन सचिव श्री विनोद जुत्शी, प्रमुख शासन सचिव पर्यटन श्री शैलेन्द्र अग्रवाल, फिक्की राजस्थान की प्रतिनिधि श्रीमती ज्योत्सना सूरी, होटल तथा पर्यटन क्षेत्र से जुड़े उद्यमी एवं गणमान्यजन उपस्थित थे। —